17 July, Wed 2024
support@thecriticalscript.com
Blog image

राम और परशुराम: भगवान विष्णु के अवतारों का सामरिक संघर्ष

19 Jan,2024 04:49 PM, by: Super Admin
1 minute read Total views: 392
0 Like 0.0

राम और परशुराम के बीच संघर्ष हिन्दू पौराणिक कथाओं में एक महत्वपूर्ण घटना है, क्योंकि दोनों ही विष्णु के अवतार के रूप में पूजे जाते हैं, और उनकी मुलाकात ने दिव्य शक्तियों के एक अद्वितीय खेल का प्रदर्शन किया। यह मुकाबला रामायण महाकाव्य में वर्णित है।

 

कथा के अनुसार, भगवान विष्णु की षष्ठ अवतार परशुराम, कुल्हाड़ी (परशु) के साथ अपनी शक्ति और धर्म के प्रति कटिबद्ध समर्पण के लिए जाने जाते थे। इस कारण, इस संघर्ष के समय पर भगवान राम, विष्णु के सातवें अवतार, अपने पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ अपने वनवास में थे। इस मुलाकात की घटनाओं का क्रम निम्नलिखित है:

 

सीता का स्वयंवर

 

कहानी एक सीता के स्वयंवर से शुरू होती है, जहां सूयम्भर में उम्मीदवार भगवान शिव की दिव्य धनुष को तारने का प्रयास करते थे। राम ने धनुष को स्तंभित करके सीता को जीत लिया। राम के स्वयंवर में सफलता प्राप्त करने के बाद, परशुराम पहुंचते हैं। उन्हें पहले हुए घटनाओं के बारे में जानकर उन्होंने सभा से यह पूछा कि कौन है जिसने भगवान शिव की धनुष को तोड़ा है। जब पता चलता है कि राम ने इस कार्य को समर्थन किया है, तो परशुराम, जो अपने तेजस्वी स्वभाव के लिए जाने जाते हैं, क्रोधित हो जाते हैं। उन्होंने राम से मिलकर उन्हें अपनी शक्ति का प्रमाण देने के लिए एक और धनुष तारने की चुनौती दी, जो विष्णु का था।

 

परशुराम की चुनौती का सामना करने पर, राम शानदारता से आगे बढ़ते हैं और विष्णु के धनुष को आसानी से तारते हैं। यह कृत्य केवल राम की दिव्य प्रकृति का प्रदर्शन करता है, बल्कि परशुराम को शान्ति प्रदान करता है।

 

राम की असाधारण शक्ति को देखकर, परशुराम को यह अनुभव होता है कि राम केवल भगवान विष्णु का ही अवतार है। उन्होंने फिर राम की दिव्य पहचान की और परिस्थिति को शांति से स्वीकार किया।

 

परशुराम ने अपनी दुख-भरी भावना को बजाये रखने के बजाय, राम को आशीर्वाद दिया और माना कि उनके अवतार का समय समाप्त हो रहा है। यह घटना दोनों अवतारों के क्रियाशील संघर्ष की एकता और दिव्य उद्देश्य को दिखाती है। यह राम की विनम्रता और एक और शक्तिशाली देवता के क्रोध का सामना करते समय उनकी सुरुचिपूर्ण क्षमता को भी प्रमोट करती है।

 

भगवान राम और भगवान परशुराम के बीच मुलाकात

 

भगवान राम और भगवान परशुराम के बीच हुई मुलाकात ने दिखाया कि दिव्य अवतारों के बीच कैसे एक-दूसरे से जुड़े हैं और दिव्य योजना का अविरल सिर्जन हो रहा है। यह राम की विनम्रता और सुरुचिपूर्णता को उजागर करता है, जिससे यह सिद्ध होता है कि वह दूसरे शक्तिशाली देवता के क्रोध का सामना कैसे करते हैं।

Disclaimer: The opinions expressed in this article are those of the author's. They do not purport to reflect the opinions or views of The Critical Script or its editor.

0 review
Ad

Related Comments

Newsletter!!!

Subscribe to our weekly Newsletter and stay tuned.